Computer Programming Language को कैसे सीखा जासकता है ?

दोस्तों आज के इस लेख में हम Computer Programming Language की कुछ मुलभुत और छोटी बातो पर चर्चा करेंगे और जानेंगे की किसी भी Programming Language को सीखने के लिए क्या क्या जरूरी चीजे होती है जिनपर Focus कर के Programming language को आसानी से सीखा जासकता है ! चाहें फिर वो कोई भी कोई भी Programming Language हो उनके ऊपर हम बड़ी आसानी से पकड़ बना सकते है ! दस्तो हम जब हम वास्तविकता भी कोई new language सीखते है तो  हम लोगो को बोलते हुए देख कर बोलना सीखजाते है   या अपने आस पास जब दूसरी भाषा के लोग होते है वहाँ का वातावरण ऐसा बन जाता है की हम उनको देख देख कर बोलना सिख जाते है परन्तु हम उस भाषा को लिखना नहीं सिख पाते है कयोकि हमे उसके लिए उस भाषा का व्याकरण ज्ञान होना आवश्य्क है  ठीक उसी तरह हमे Programming language की Grammar का ज्ञान होना आवश्य्क है दोस्तों यहाँ सबसे अछि बात यह है की सभी Programming language की Grammar एक जैसी होती है  यहाँ Programming Language की Grammar से आशय यह है की प्रोग्राम के किस भाग को किसी शब्द विषेस को क्या बोलै जाता है और उसका यूज़ वही क्यों किया जाता है यह सीखना है  अगर आप program में लिखे हर एक शब्द Word को समझना चाहते है तो आपको उसके Grammar की शब्दावली को समझना होगा जोकि सभी Programming Language में एक जैसी होती है  सभी Programming language में हर एक Statement का कुछ न कुछ मतलब होता है और हर एक Statement या block में लिखे गए Word का नाम होता है उन सभी Statement को हम यहाँ विस्तार से समझने का प्रयास करेंगे

Token

Token क्या होते है Token Programming language में use की जाने वाली एक इकाई होती है हम इसको अन्य सरल सब्दो में कहे तो Programming language में Use किया जाने वाला हर एक Word टोकन होता है  जिसको हम विस्तार से समझने का प्रयास करेंगे

token के प्रकार

1. (keyword)कीवर्ड

2. (identifiers) आइडेंटिफायर

3. (String) स्ट्रिंग

4.(Constant and variable) कांस्टेंट,वेरिएबल

5.(operator) ओपेरटर

6.(spacial symbol ) स्पेशल सिंबल

 

1. (keyword)कीवर्ड  — किसी भी Language में कुछ ऐसे Sentence या Words होते है जिनका Compiler के लिए कोई यूनिक मतलब होता है और इसका अर्थ पहले से Define होता है Compiler के लिए इनकी संख्या अलग अलग Programming language में अलग अलग होती है  इन keywords को हमे याद करने की कोई आवश्य्कता नहीं होती है जैसे जैसे हम Programming language पढ़ते जाते है यह हमे अपने आप ही याद हो जाते है हमे Only इसके बारे में कुछ basic Knowledge रखने की आवश्य्कता होती है

इनकी कुछ विसेसताये होती है निम्न प्रकार से

1. इनको हम variable की तरह यूज़ नहीं कर सकते अर्थात variable declaration में हम इनका नाम यूज़ नहीं कर सकते है

2 . इनको reserve word भी कहाजाता है

3.   इनकी संख्या सभी Programming Language में अलग अलग होती है

C Programming language में निम्न प्रकार से Key Words होते है

Keywords in C Programming
auto break case char
const continue default do
double else enum extern
float for goto if
int long register return
short signed sizeof static
struct switch typedef union
unsigned void volatile while

C++ में  keyword

alignas (since C++11)
alignof (since C++11)
and
and_eq
asm
atomic_cancel (TM TS)
atomic_commit (TM TS)
atomic_noexcept (TM TS)
auto(1)
bitand
bitor
bool
break
case
catch
char
char16_t (since C++11)
char32_t (since C++11)
class(1)
compl
concept (concepts TS)
const
constexpr (since C++11)
const_cast
continue
decltype (since C++11)
default(1)
delete(1)
do
double
dynamic_cast
else
enum
explicit
export(1)
extern(1)
false
float
for
friend
goto
if
import (modules TS)
inline(1)
int
long
module (modules TS)
mutable(1)
namespace
new
noexcept (since C++11)
not
not_eq
nullptr (since C++11)
operator
or
or_eq
private
protected
public
register(2)
reinterpret_cast
requires (concepts TS)
return
short
signed
sizeof(1)
static
static_assert (since C++11)
static_cast
struct(1)
switch
synchronized (TM TS)
template
this
thread_local (since C++11)
throw
true
try
typedef
typeid
typename
union
unsigned
using(1)
virtual
void
volatile
wchar_t
while
xor
xor_eq

python programming language in keyword

False class finally is return
None continue for lambda try
True def from nonlocal while
and del global not with
as elif if or yield
assert else import pass
break except in raise

दोस्तों Next Article में हम identifier के बारे में विस्तार से जानने का प्रयास करेंगे

दोस्तों अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वरा दिगई Trips ज्ञान प्रद और Knowledge वाली लगी हो तो Share करे like करे और हिंदी आईटी डॉट कॉम को Follow करे Follow करने के बाद हिंदी आईटी सलूशन डॉट कॉम जब भी कोई knowledge वाली post या Tutorial publish करेगा आप को Notification अपने email पर मिल जाएगी इस website पर आप Linux से Related बहुद सी post है जो सरल हिंदी भाषा में है जिस से आप Linux में निपुर्ण हो सकते है अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वारा पब्लिश किये गए किसी भी Trick या Tutorial का Piratical process में कोई Problem आती है तो Comments करे हिंदी आईटी सलूशन द्वारा आपकी समस्या का समाधान किया जाये गा

धन्यवाद
लेखक -विष्णु शर्मा

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s