Windows Operating System में कैसे Virtual Environment बनाये बिना किसी Third Party Software के

दोस्तों आज के इस लेख में हम सीखते है की Windows Operating System में हम बिना किसी Third party Software के कैसे Virtual Environment बना सकते है परन्तु इससे पहले हम यह जानते है की Virtual Environment होता क्या है! दोस्तों Virtual Environment में अपने Computer machine को एक ऐसा Environment बनाना होता है जिसमे हम कोई भी कार्य (work )करे परन्तु उसका कोई प्रभाव हमारे Real Operating system पर नहीं पड़े अन्य सब्दो में हम यह कह सकते है की वह  एक आभासी वातावरण (Virtual environment ) रहेगा जिसमे हम कोई भी दूसरा Operating system use कर अपने अनुसार Hard ware Processing Power दे सकते है यानि Windows Operating system में ही एक दूसरा Operating system install करना है  इस काम के लिए अनेक third party software internet पर available है जो कुछ Free है और कुछ paid है जैसे Virtual box ,VMware Work ststionपरन्तु दोस्तों Windows operating system भी by default virtual environment provide करवाता है जिसको Hyper -V Manager के नाम से जाना जाता है यह Windows Machine में by Default Disable रहता है हमे इस Features को on करके use कर सकते है इसके लिए आप को Hindiitsolution द्वारा बताए गए कुछ Simple step को Follow करना है

1 सबसे पहले आप को Hyper -v को enable करना है निम्न Path पर जाकर Control panel >Programs >turn Windows feathers on off  इस पर Click करने पर एक Window open होती है जिसमे से Hyper -v पर Click कर OK करना है इस को OK करने  के बाद यहSystem कुछ Time लेता है On होने में फिर  Computer को restart करना है 

Hyper-V

2. Computer के Restart होने के बाद आप को windows search में Search करना है Hyper-Computer के Restart होने के बाद आप को windows search में Search करना है Hyper-V manager

hyper -v

इसको Click करने पर एक window open होती जिसमे हम कोई भी Operating system install कर सकते है अगर आप को Virtual box या कोई भी third party virtual environment software use किया है तो इसको भी आसानी से कर सकते है या आप पहली बार कोई Virtual environment use कर रहे है तो Hindiitsolution के steps को Follow करे

hyper -v

3. यहाँ तक process Complet होने के बाद हमें Operating system को Install करने के लिए जिस Operating system को हम Install करना कहते है उसकी iso File इस CD /DVD होनी आवश्य्क के हम अपने Source के अनुसार Option Select करना है और Next Select करना है

hyper -v

इस तरह virtual machine की Setting Configure करने के बाद Operating system install कर सकते है और Virtual environment operating system use कर सकते है जिसका कोई भी प्रभाव Real operating system पर नहीं पड़ता है अगर आप को इस Hyper -V के process में कोई समस्या आती है तो आप Comments करके निचे बता सकते है

दोस्तों अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वरा दिगई Trips ज्ञान प्रद और Knowledge वाली लगी हो तो Share करे like करे और हिंदी आईटी डॉट कॉम को Follow करे Follow करने के बाद हिंदी आईटी सलूशन डॉट कॉम जब भी कोई knowledge वाली post या Tutorial publish करेगा आप को Notification अपने email पर मिल जाएगी इस website पर आप Linux से Related बहुद सी post है जो सरल हिंदी भाषा में है जिस से आप Linux में निपुर्ण हो सकते है अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वारा पब्लिश किये गए किसी भी Trick या Tutorial का Piratical process में कोई Problem आती है तो Comments करे हिंदी आईटी सलूशन द्वारा आपकी समस्या का समाधान किया जाये गा

धन्यवाद
लेखक -विष्णु शर्मा

 

Windows Operating System में Virtual Hard Disk कैसे Create की जाती है और इसके क्या फायदे होते है

दोस्तों आज के इस लेख में हम यह सीखते है की Windows Operating System में Virtual Hard disk कैसे Create की जाती है पर इससे पहले हम यह जानते है की Virtual Hard Disk होती क्या  है और इसको Create करने का क्या (Benefit )फायदा होता है दोस्तों Virtual Hard disk Real heard disk से Space लेकर बनती है Hard drive के जिस partition से Space लिया जाता है वहाँ एक File बन जाती है और वो File Hard drive की तरह Work करती है और उस को हम एक Computer से दूसरे Computer में Transfer भी कर सकते है Virtual hard Disk में Data को Store भी कर सकते है और इसमें Partition भी बना सकते है Virtual hard Drive का सबसे बड़ा फायदा यह है की इसमें रखा Data बेहद Safe होता है  और इसमें Data को Store कर Password लगाया जा सकता है और इसके बाद यह Computer को Restart या Shutdown करने पर अपने आप गायब (hide )हो जाती है और फिर user को जब आवश्य्कता पड़े इसको Show कर सकता है Virtual hard disk को Create करने के लिए किसी भी प्रकार के third party Software की आवश्य्कता नहीं पड़ती है इसके लिए Windows operating system में in built  Tools होते है जिसकी सहायता से यह किया जा सकता है आप Hinsiitsolution.com के द्वारा दिखाए गए Screen Short और कुछ सरल Points को देख कर आप बहुध आसानी से यह कर सकते है

  1. सबसे पहले आप को My Computer के Icon पर Right click कर manage Option को Select करना है और जो Window Open होती है उसमे से आप को Disk management Option को Select करना है

virtual heard diskvirtual heard disk

2. यहाँ हमे disk management में देखने को मिलता है real heard drive और उसके partition  की information इन्ही Partition मेंसे किसी एक Partition में एक file बनानी होती है जो Computer के लिए heard drive की तरह Work करती है  यहाँ हमे Action पर Click  करCreate VHD को Select करना है

virtual heard disk

3. यहाँ हमे जिस Partition से virtual heard disk के लिए Space लेना है वो location select करना है और जिस Size की आप Heard drive created करना चाहते है वहsize देनी है  यहाँ हमारी Virtual heard disk की एक File बने गी जो system के लिए Heard drive की तरह work करेगी

virtual heard disk

4. यहाँ Location और साइज देने के बाद OK पर क्लिक करते है तो Virtual disk के लिए File बनना Start हो जाती है

virtual heard disk

5. जब virtual Disk Create हो जाये तो हमे Manage विंडोज को Close कर देना है और फिर एक बार वापस Computer के right Click करते हुए  manage windows को Open करना है Manage Window Open होते ही एक पॉपप (window) Automatic Open हो जाता है वहाँ हमे Gpt या MBR  कोई भी File System Select करना है वैसे MBR File Syatem ज्यादा बहतर रहता है तो यहाँ वही Select किया हुवा है

virtual heard disk

इसके बाद Disk 1 में हमे right Click कर New Volume group को बनाना है यह एक तरह से Virtual Hard drive का Partition होगा

virtual heard disk

virtual heard disk

इसके बाद आप my Computer में जाकर देख सकते है की एक new Partition create हो चूका है इस Partition में हम Data को Store कर के रख सकते है परन्तु यहाँ एक ध्यान देने योग्य बात है की जब हमारा Computer restart या shutdown होगा तब यह partition Hide हो जायेगा इसको हमे वापस Show करने के लिए हमे Mount /attach करना होगा जो की एक सरल Process  है

जिसको Screen Short के जरिये भी दिखाया गया है  इसके लिए हमे Manage विंडोज को Open करना है वहां से Manage Windows option को Select करना है फिर इसके बाद Action पर click कर Attach VHD को Select करना है यहाँ से हमे उस partition में से  वो फाइल सेलेक्ट करनी है जिसको हम ने Virtual Heard drive बनाने के लिए use किया था उसको Select कर ने केबाद Hide Partition Show हो जायेगा

virtual heard drive

तो दोस्तों इस तरह से आप Computer में एक Virtual hard drive create कर सकते है और इसमें अपना कोई भी important या खुफिया data store कर सकते है Computer के Restart या Shut down होने पर यह Hard drive अपने आप Unmount/ Hide हो जायेगा और  और दोस्तों इसमें मजे की बात यह है की हम इसको copy कर दूसरे computer पर भी use कर सकते है और यदि हमे इसको ज्यादा secure बनाना होतो हम इस पर Bit locker का use कर Password भी लगा सकते है

 

दोस्तों अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वरा दिगई Trips ज्ञान प्रद और Knowledge वाली लगी हो तो Share करे like करे और हिंदी आईटी डॉट कॉम को Follow करे Follow करने के बाद हिंदी आईटी सलूशन डॉट कॉम जब भी कोई knowledge वाली post या Tutorial publish करेगा आप को Notification अपने email पर मिल जाएगी इस website पर आप Linux से Related बहुद सी post है जो सरल हिंदी भाषा में है जिस से आप Linux में निपुर्ण हो सकते है अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वारा पब्लिश किये गए किसी भी Trick या Tutorial का Piratical process में कोई Problem आती है तो Comments करे हिंदी आईटी सलूशन द्वारा आपकी समस्या का समाधान किया जाये गा

धन्यवाद
लेखक -विष्णु शर्मा

Linux RedHat/CentOS में E mail Server कैसे Configure करे ?

दोस्तों आज के इस लेख में हम सीखते है की Linux Server में E Mail Server कैसे Configure किया जाता है  इससे पहले हम जानते है की हमे Linux Server में  Mail Server Configure करने की आवस्य्क्ता क्यों पड़ती है हर कम्पनी का अपना -अपना Personal mail सर्वर होता है जिसको केवल उस कम्पनी में कामकरने वाले employ use करते है और उनके Local Network में इसका use किया जाता है ताकी कोई इसको Hake कर कम्पनी की personal information  या Data से कोई छेड़ छाड़ नहीं  कर सके अगर  कम्पनी चाये तो इसमें PHP या Scripting language का use कर इसका अच्छा इंटरफेस भी तयार कर Publicly Use के लिए Launch  कर सकती है   Mail – Server को Configure करने से पहले हमे Linux में कुछ Package को install करने की आवस्य्क्ता पड़ती है इसके लिए हमे YUM Server को Configure करना होता है यह एक बहुद ही सरल Configuration होता है अगर आप जानना चाहते है की Linux में yum Server क्या होता है और इसका Configuration कैसे किया जाता है तो आप इस Link पर Click करे और देखे

web mail server

यहाँ में यह मानकर चलता हु की आप ने अपनी Linux Machine में YUM Server Configure कर दिया है अब आगे का Process निम्न प्रकार से है !

Mail Server Configuration के लिए आवश्य्क Package को निम्न Commands से  इनस्टॉल करना

[root@dhcppc15 ~]# yum install php* http* mutt* procmail* sendmail* sql* make* dovecot* squirrelmail* -y

निम्न Package को install करने के बाद Send mail की Sendmail.mc File में जाकर Line number 116  को Comment  करना है

Note – अगर आप को Line Number Count करने में problen आती है है तो Type करे Ese : set number)

[root@dhcppc15 ~]# vim /etc/mail/sendmail.mc

mail server

अब हमे dovecot .conf File में जाकर Line Number 20  को Comment out Remove  करना है और  IMAP , POP 3 को को छोडकर बाकी Text को remove करना है

[root@dhcppc15 ~]# vim /etc/dovecot.conf

mail Server

अब हमे Http dovecot और Send mail  Service  को Restart करना है

[root@dhcppc15 ~]# service httpd restart
[root@dhcppc15 ~]# service dovecot restart
[root@dhcppc15 ~]# service sendmail restar

Fire wall को Disable करना है निम्न Commands से

[root@dhcppc15 ~]# iptables -F

इसके बाद हमे ब्राउज़र में जाकर Linux machine का IP Address  type करना है जिस के बाद Maill server का login panel open हो जाता है

[root@dhcppc15 ~]# ifconfig
          Base address:0xd010 Memory:f0000000-f0020000
eth1      Link encap:Ethernet  HWaddr 08:00:27:5A:B2:35
          inet addr:192.168.1.17  Bcast:192.168.1.255  Mask:255.255.255.0
          inet6 addr: fe80::a00:27ff:fe5a:b235/64 Scope:Link
          UP BROADCAST RUNNING MULTICAST  MTU:1500  Metric:1
          RX packets:308 errors:0 dropped:0 overruns:0 frame:0
          TX packets:138 errors:0 dropped:0 overruns:0 carrier:0
          collisions:0 txqueuelen:1000
          RX bytes:28702 (28.0 KiB)  TX bytes:18399 (17.9 KiB)
          Base address:0xd240 Memory:f0820000-f0840000
webmail 

यहाँ आप Linux Machine में कोई भी 2 यूजर बना कर उस से log in हो सकते है और एक दूसरे को Mail send कर test कर सकते है अगर आप जानना चाहते है की Linux machine में User Account के से बनाते है तो इस Link पर Click करे और देखे

दोस्तों अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वरा दिगई Trips ज्ञान प्रद और Knowledge वाली लगी हो तो Share करे like करे और हिंदी आईटी डॉट कॉम को Follow करे Follow करने के बाद हिंदी आईटी सलूशन डॉट कॉम जब भी कोई knowledge वाली post या Tutorial publish करेगा आप को Notification अपने email पर मिल जाएगी इस website पर आप Linux से Related बहुद सी post है जो सरल हिंदी भाषा में है जिस से आप Linux में निपुर्ण हो सकते है अगर आप को हिंदी आईटी सलूशन द्वारा पब्लिश किये गए किसी भी Trick या Tutorial का Piratical process में कोई Problem आती है तो Comments करे हिंदी आईटी सलूशन द्वारा आपकी समस्या का समाधान किया जाये गया

धन्यवाद
लेखक -विष्णु शर्मा

NFS Server क्या है ? और इसको RedHat Linux में कैसे Configure किया जाता है !

दोस्तों आज के इस लेख में हम सीखते है की Linux Machine में NFS (Network File System ) Server को कैसे Configure किया जाता है ! इससे पहले हम जानते है की NFS Server होता क्या है और इसको Linux मशीन में Configure करने की आवस्य्क्ता क्यों पड़ती है ! NFS सरवर के द्वारा किसी भी Folder या Directory को Remotely Other Linux machine पर Share किया जा सकता है  NFS के through हम जिस Folder या Directory को share करते है   वह मात्र remote machine पर Show होता है और Real spaces Server पर लेता हे !  इसका यूज़ website  hosting के दौरान Website के honer को website के Control-panel  में Interface देने के लिए किया जाता है  या फिर उदारण के लिए कोई टीम एक साथ मिलकर किसी project के लिए काम कर रही हो और सभी को एक जैसे data की आवश्य्कता है तो उस data को एक Folder में रख कर Share कर दिया जाता है जिसको जो जरूरत है वो वहाँ से data ले लेता है और किसी को भी अपने काम में कोई Disturbance नहीं होता है

Continue reading

Mobile Rooting क्या है और इसके क्या फायदे और नुक्सान है ?

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम Android Mobile Rooting के बारे में जानते है ! Root का हिंदी में मतलब होता है जड़ यानि आप के Android mobile को  Root करके उसकी जड़ तक पहुंचना , और Mobile को Root करने का मतलब है मोबाइल का पूरा Software Control आपके हाथ में लेना   Mobile को root करने के कहि फायदे भी है तो नुक्सान भी है तो आज के इस लेख को पढ़ने के बाद आप Mobile को root करने और ना करने के फायदे और नुक्सान के बारे में जानेंगे

Mobile Root

Continue reading

RedHat Linux Server में Web Server Apache कैसे Configure किया जाता है

हेल्लो दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम सीखते है की Redhat Linux Server मेंApache Web server कैसे Configure किया जाता है Apache एक बहुद ही प्रचलित web Server है जिसको Windows Linux Unix इत्यादि platform पर Website Hosting के लिए Use किया जाता है Apache को Apache software Foundation ने Develop किया जोकि एक Open Source Community है  यह Free Available है जिसको अलग अलग Platform के लिए Download कर कहि भी use किया जासकता है

तो इस Process को Continue करते हुए हम आगे बडते हे सबसे पहले आप को अपने Linux Server में YUM Server को Configure करना हे जिसकी Help से हम Apache के Package को Install कर सके YUM Server Linux में एक बेहद ही महत्वपूण Server है अगर आप जानना चाहते है की Linux Machine में YUM  Server को कैसे Configure किया जाता है तो तो इस Link पर Click करे और जाने

Continue reading

FTP (File Transfer Protocol )Server क्या है ? और इसको RedHatLinux Server में कैसे Configure जाता है

हेल्लो दोस्तों आज हम यह जानते और सीखते है की  FTP Server Server क्या होता है और इसको Linux Server में कैसे Configure किया जाता है FTP File Transfer Protocol एक Service  होती है जिसके द्वारा Internet पर data को upload और Download किया जाता है ! दो Computer के बिच Data का Transfer किया जा सकता है यह TCP (Transmission Control Protocol )   / IP (Internet Protocol )पर Work करता है   जब कोई website आप को कोई Software या अन्य कोई Data download या Upload करने की facility देती है तो उस website का data FTP Server पर ही Store होता है यह तो हुवा FTP सर्वर का General introduction यहाँ Linux Server में Ftp Server को कैसे Configure किया जाता है  और कैसे किसी file को Download और Upload किया जाता है ,यहाँ हम सीखते है की FTP Server का Configuration Linux Machine में कैसे किया जाता है  FTP Server के Package को Install करने के लिए YUM Server का Configuration करना आवश्यक होता है ! अगर आप जानना चाहते है की YUM Server क्या होता है और इसको Linux Machine में Configure करने की आवश्यकता क्यों पड़ती है तो इस Link पर Click करे और समझे

तो यहाँ  में यह मानकर चलता हु किआप ने  YUM Server Configure कर दिया है

Step 1 तो सबसे पहले हम  FTP Server का Package Install करेंगे निम्न   Command से

[root@localhost ~]# yum install vsftp* -y

 Step 2अब हमे FTP Server की Configuration File में जाकर Line Number 27 और 31 को Comment out remove करना है

Configuration File में निम्न Commands से Open की जाती है

[root@localhost ~]# vim /etc/vsftpd/vsftpd.conf 
~(Note-Line number Search करने के लिए  Configuration File Open होते ही Esc press करे फिर Shoft + : set nu (type करे और Enter press करे)

~
~
~

24 # Uncomment this to allow the anonymous FTP user to upload files. This only
25 # has an effect if the above global write enable is activated. Also, you will
26 # obviously need to create a directory writable by the FTP user.
27 anon_upload_enable=YES  (Note-यह only # को Remove करना है)
28 #
29 # Uncomment this if you want the anonymous FTP user to be able to create
30 # new directories.
31 anon_mkdir_write_enable=YES
32 #
33 # Activate directory messages – messages given to remote users when they
34 # go into a certain directory.
35 dirmessage_enable=YES (Note-यह only # को Remove करना है)

~
~
~
~
:wq
Step 3अब हमे FTP Server को access करने वाले Users को Permission provide करवानी होती है इसको निम्न Commands से किया जाता है

[root@localhost ~]# chmod 777 /var/ftp/

Step 4अब FTP Services को Restart करना होगा निम्न Commands से

[root@localhost ~]# service vsftpd restart
Shutting down vsftpd:                                      [  OK  ]
Starting vsftpd for vsftpd:                                [  OK  ]

निम्न कमांड्स से FTP Service Check करते है

[root@localhost ~]# chkconfig vsftpd on

अब हमे Firewall वे SeLinux को Disable करना है निम्न Command से

[root@localhost ~]# iptables -F
[root@localhost ~]# setenforce 0

Step 5अब हमे Windows machine या की की भी Browser में जाकर url bar में Linux Machine का IP Address type करना होता है जिस से हमे FTP Server access हो जाये

ftp server